Overweight Women During Pregnancy In Hindi

Pinterest LinkedIn Tumblr +

ज्यादा वजन वाली महिलाओं को गर्भावस्था में हो सकती हैं अनेकों बीमारियां – जानिए इन सभी बीमारियों का समाधान l

कुछ महिलाएं गर्भावस्था से पहले ही काफी मोटी होती हैं इसीलिए जब गर्भधारण करती हैं, तो पहले से भी ज्यादा मोटी हो जाती हैं l जिसकी वजह से उन्हें कई तरह की समस्याएं रहने लगती हैं। जिन महिलाओं का वजन उनकी लंबाई और उम्र के हिसाब से काफी ज्यादा होता हैं , तो इस प्रकार की महिलाओं के शरीर में बच्चे का विकास भी अच्छे से नहीं हो पाता l  इन महिलाओं में पोषक तत्वों की कमियां भी रहती है। अब आगे हम आपको  Overweight Women During Pregnancy In Hindi के बारे में बताएंगे।

गर्भावस्था के दौरान ज्यादा वजन वाली महिलाओं को होने वाली बीमारियां और उनके इलाज – Diseases and Treatment of Overweight Women During Pregnancy In Hindi ?

गर्भावस्था में ज्यादा वजन वाली महिलाओं को समस्याएं हो सकती हैं जैसे –

  1. उच्च रक्तचाप की समस्या

जब महिलाओं का वजन ज्यादा हो जाता है, तो उस समय गर्भधारण करने के पश्चात उनमें सबसे पहली समस्या उच्च रक्तचाप ( High Blod Pressure ) की आती हैं। पहले तो यह समस्या इतनी ज्यादा नहीं रहती ,लेकिन धीरे-धीरे ज्यादा वजन वाली महिलाओं को यह समस्या हमेशा ही रहने लगती हैं। यदि महिलाएं उच्च रक्तचाप की समस्या से बचना चाहती हैं, तो उन्हें समय पर अपना वजन नियंत्रित करना होगा। इसी के साथ-साथ महिलाओं को गायनोलॉजिस्ट डॉक्टर की सलाह के पश्चात कुछ दवाइयों का सेवन करते रहना होगा l

  1. मधुमेह का शिकार होना

जिन महिलाओं का वजन गर्भावस्था के दौरान काफी ज्यादा होता है, तो इस प्रकार की महिलाएं मधुमेह का शिकार भी हो सकती हैं। आपको पता ही होगा कि मधुमेह  खतरनाक बीमारी है ,यह बीमारी देखने में कुछ नहीं है लेकिन बिगड़ने पर आए तो व्यक्ति की जान भी बड़ी आसानी से ले सकती हैं।  इस समस्या से बचने के लिए महिलाओं को निरंतर अपनी जांच कराते रहना चाहिए और जांच के दौरान शुगर का स्तर कम या ज्यादा होने पर तुरंत ही गायनोलॉजिस्ट डॉक्टर से इस बारे में बात करके दवाई खाएं। क्योंकि गर्भावस्था में शुगर का लेवल कम या ज्यादा होने की वजह से गर्भपात भी हो सकता है।

  1. डिलीवरी के बाद ज्यादा ब्लीडिंग होना

जब गर्भावस्था के अंतिम पड़ाव में महिलाओं की डिलीवरी होती है, तो उस समय ज्यादा वजन वाली महिलाओं के साथ यह समस्या भी देखी जाती है कि उन्हें आम महिलाओं की अपेक्षा काफी ज्यादा ब्लीडिंग होती हैं l प्रसव के दौरान होने वाली ब्लीडिंग ( Bleeding ) के कारण बहुत-सी महिलाओं की तो जान भी जा सकती हैं, इसीलिए महिलाओं को अपना वजन नियंत्रित करना चाहिए। वैसे तो आज के समय में ज्यादा वजन वाली महिलाओं को ब्लीडिंग ( Bleeding ) की समस्या से बचाने के लिए ज्यादातर डॉक्टर बच्चे की डिलीवरी ऑपरेशन से ही करते हैं l

  1. समय से पहले शिशु को जन्म देना

कभी-कभी ज्यादा वजन वाली महिलाओं के सामने यह समस्या भी उत्पन्न हो जाती है कि उन्हें समय से पहले ही बच्चे को जन्म देना पड़ता है l जब समय से पहले बच्चे को जन्म देना पड़ता हैं , तो उस परिस्थिति में डॉक्टर के पास केवल ऑपरेशन ही एक ऐसा माध्यम होता है जिसके द्वारा बच्चे की डिलीवरी की जा सकती हैं। ज्यादा वजन वाली महिलाओं के दिल की धड़कनें भी अनियमित हो जाती हैं, इसीलिए उन्हें बचाने के लिए समय से पहले बच्चे की डिलीवरी करनी पड़ती है।

  1. गर्भ में शिशु का विकास अच्छे से ना होना

जब महिलाएं गर्भवती होती हैं, तो उस समय ज्यादा वजन होने के कारण महिलाओं के गर्भ में पल रहें शिशु का विकास अच्छे से नहीं हो पाता। उनके शरीर को ठीक ढंग से पोषक तत्व की प्राप्ति नहीं हो पाती हैं। यदि महिलाएं इस समस्या से बचना चाहती हैं ,तो उन्हें ज्यादा मोटापे वाली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। उन्हें सिर्फ ताजे फल , हरी-सब्जियां , दालें आदि के साथ-साथ सिर्फ घर पर बना भोजन खाना चाहिए।

Share.

About Author

Leave A Reply